31 C
Patna, IN
Sunday, August 19, 2018

साहित्य (literature) : कविताएँ, लघु कहानियाँ एवं आलेख का संग्रह

ख़त (A Letter)

ख़त देखो आज फिर वो खत आया है जाने ना, आज क्या पैगाम लाया है तड़प रही थी आंखें मेरी देखने को जिनको , छूने को उनके हर एहसास...
Facebook Comments