24 C
Patna, IN
Tuesday, December 11, 2018
Home Authors Posts by Somya Sri

Somya Sri

6 POSTS 0 COMMENTS
petrol-diesel-price-hike-problem
पेट्रोल डीजल में लगी आग कब बूझेगी? देश में डीजल और पेट्रोल के दाम में लगातार बढ़ोतरी होने के कारण जनता काफी परेशान है। अपने सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच चूका डीजल और पेट्रोल के दाम कभी इतने ज्यादा नहीं थे, जितने आज हैं। देश के हजारों से ज़्यादा पेट्रोल पम्पों पर एक दिन में लाखों वाहन ईंधन लेते हैं...
role-of-bihar-in-indias-current-politics-the-bihar-news
भारत की वर्तमान राजनीति में अपने बिहार की भूमिका राजनीति क्या है ? आज देश की स्तिथि कुछ ऐसी बन चूंकि है कि अगर कोई बड़ा अपराध होता है तो जनता सरकार पर उंगली उठाती है, सरकार के योजनाओं पर उंगली उठाती है और सरकार को राजनीति के कटघरे में खड़ा करती है। आखिर, राजनीति है क्या? देश की स्तिथि मे सुधार...
raksha-bandhan-the-bond-of-love-and-protection
रक्षाबंधन : भाई बहन के प्रेम का प्रतीक श्रावण का मास आते ही जहां मौसम में बिजली की चमक, वर्षा की रिमझिम और काले बादलों की घोर गर्जन सुनने को मिलती है तो वही भाई बहनों के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन त्यौहार भी श्रावण मास का एक शोभा है। रक्षाबंधन हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो श्रावन मास की...
after-70-years-of-independence
आजादी के 70 सालों बाद भी मौलिक समस्याओं से जूझता भारत हमारा भारत इस साल 72 वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहा है। अंग्रजों की गुलामी की हथकड़ियों को तोड़ने में 300 सालों से भी ज्यादा का समय लगा है। 15 अगस्त 1947 को हमारा देश आजाद हुआ और तब से ही देश का हर नागरिक इस आज़ादी के किरण...
fore year of modi gov
मोदी के चार साल : उपलब्धियों के बीच भी ये नाकामियां मोदी के सत्ता में आये हुए चार साल पूरे हो चुके हैं। 2014 में कांग्रेस की नाकामियों को गिनाकर और कई सारे वादे कर के मोदी सरकार सत्ता में आई। 1984 के बाद 2014 का चुनाव में ऐसा पहला मौका था, जब देश की जनता ने किसी एक दल...
journey-from-being-a-peasant-from-journalist-the-bihar-news-tbn-patna-bihar-hindi-news
पत्रकार से किसान बनने तक का सफर : गिरिन्द्र नाथ झा गिरिन्द्र नाथ झा का जन्म पूर्णिया के चनका गांव में हुआ था। बचपन से ही उन्हें अपने अपने गांव से बेहद ही लगाव रहा लेकिन, गिरिन्द्र नाथ झा के किसान पिता ने हमेशा उन्हें गांव से दूर रखा। समाज मे एक किसान को असफलता का प्रतिबिंब माना जाता है...