तुम्हारे जाने के बाद……

thebiharnews-in-tumhare-jaane-ke-baadजिस पल तुम गए
लगा ले गए मेरी ज़िंदगी
लगा मर गयी तमन्नाएँ सारी
पर कभी कभी कुछ पलों ने
कराया ये अहसास
की अभी भी ज़िंदा है मेरे ज़ज़्बात

दो बार -चिलचिलाती धुप ने जब तन को जलाया,
कड़कड़ाती ठंड ने जब तन ठिठुराया ,
लगा एहसास ज़िन्दा है
वरना तुम्हारे जाने के बाद.. . . . . .

दो बार-जब गर्म हवा में सूखे पत्ते आवारा से उड़े ,
जब देखी किसी दरवाज़े पर सुखी तोरण की बेल ,
लगा आँखों की नमी ज़िंदा
वरना तुम्हारे जाने के बाद . . . . . . . . . .

दो बार -जब आसमान में देखा उड़ते पक्षियों के झुण्ड,
जब पहली बारिश में आयी मिट्टी की सोंधी खुशबु ,
लगा चाहत ज़िंदा है
वरना तुम्हारे जाने के बाद . . . . . .

दो बार -जब पौधों में कोमल पत्ते और कलियाँ खिली ,
जब गली में सुनी बच्चे की मधुर किलकारी ,
लगा की उम्मीद ज़िंदा है
वरना तुम्हारे जाने के बाद. . . . . . .

लगा मर गयी तमन्नाएँ सारी
पर कभी कभी कुछ पलों ने
कराया ये अहसास
की अभी भी ज़िंदा है मेरे ज़ज़्बात।

ये भी पढ़े :हर रोज

Facebook Comments
SHARE
Previous articleहर रोज
Next articleMy Shadow : By -Riecha Sambhari
Susmita is a homemaker as well as a writer. She loves writing whatever comes in her mind either its about home affair or about social or political affairs. She believe sharing your opinion is a great power of human being which can make social changes and bring people together. She believe enjoying every sip of life.