नीतीश के ट्वीट से ट्विटर पर सियासी घमासान

पटना : इन दिनों बिहार के सियासी सोशल मीडिया में ट्वीट के जरिये दो राजनेता एक दूसरे से टकरा रहे हैं। परिणाम यह है कि आम लोगों को बैठे-बिठाए कमेंट करने का एक मुद्दा मिल गया है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सूबे के सबसे बड़े सियासी परिवार के मुखिया लालू यादव, इन दोनों नेताओं के बीच जुबानी जंग कम, अब ट्वीटर जंग ज्यादा हो रही है। दोनों नेता सोशल मीडिया पर एक-दूसरे के खिलाफ जमकर बयानबाजी कर रहे हैं। एक तरफ भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नीतीश कुमार लालू पर हमला बोल रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ लालू भी नीतीश कुमार पर जनादेश के अपमान का आरोप लगा रहे हैं।

दोनों नेताओं के बीच के सियासी रिश्ते के बारे में किसी को बताने की जरूरत नहीं है।

ये भी पढ़े: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चला अपना दांव, देखे कौन हुआ घायल….

आज सुबह में नीतीश कुमार ने ट्वीट किया

खासकर लालू यादव, नीतीश कुमार के आलोचना का कोई मौका हाथ से जाने नहीं देते हैं। हाल में नीतीश कुमार भी ट्वीटर पर एक्टिव हुए हैं और लोग उनकी बातों पर काफी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं और लाइक भी कर रहे हैं। शनिवार यानी आज सुबह-सुबह नीतीश कुमार ने ट्वीट कर कहा कि बाल-बच्चों और परिजनों से गाली दिलवाना, सामाजिक सद्भावना और साझी विरासत का उत्कृष्ट उदाहरण।

नीतीश कुमार ने सबसे पहले लालू को लेकर ट्वीट के जरिये 27 नवंबर को बड़ा हमला बोला, उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा जेड प्लस और एसएसजी की मिली हुई सुरक्षा के बावजूद केंद्र सरकार से एनएसजी और सीआरपीएफ के सैकड़ों सुरक्षा कर्मियों की उपलब्धता के जरिये लोगों पर रौब गांठने की मानसिकता, साहसी व्यक्तित्व का परिचायक है। इसके बाद तो बिहार की राजनीति में तूफान आ गया।

ये भी पढ़े: पत्रकारों के सवाल पर बिफर पड़ी राबड़ी देवी, कहा- ‘हां हम गुंडा-मवाली हैं’, तो फिर…

विधानसभा परिसर में लालू के बेटे और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार सरकार में हो रहे घोटालों पर ट्वीट क्यों नहीं करते। अमित शाह के बेटे के बारे में ट्वीट क्यों नहीं करते। तेजस्वी यादव ने कहा कि अच्छी बात है, वह आजकल ट्वीट करते हैं, पहले तो ट्वीटर का मतलब चिचियाना बताते थे। उसके दूसरे दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे नहीं मालूम कौन क्या लिख रहा है लेकिन हम भी कुछ-कुछ कभी कभार ट्वीट करते रहते हैं।

पिछले कई दिनो से ट्विटर वॉर हो रहा है

उसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यही नहीं रुके उन्होंने 28 नवंबर को ट्वीट कर कहा कि जान की चिंता, माल-मॉल की चिंता,सबसे बड़ी देशभक्ति है। अभी इस पर बहस चल ही रही थी कि उन्होंने 29 नवंबर को ट्वीट किया कि भ्रष्टाचार शिष्टाचार है। उसके खिलाफ कार्रवाई अनाचार है। फिर उन्होंने तीस नवंबर को लिखा कि घोटालों को उजागर करना और घोटालेबाजों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करना ही घोटाला है।

उधर, लालू ने ट्वीटर पर लिखा कि क्या आप पेट के दर्द ठीक करने वाले किसी डेंटिस्ट को जानते हैं?

जिस तरीके से नीतीश कुमार ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर महागठबंधन से अलग होकर भाजपा के साथ बिहार में नयी सरकार बना रही थी इसी को लेकर लालू ने नीतीश के लिए ट्विटर पर लिखा बिहार में जनादेश का एक हत्यारा है जिसके पेट में दांत है। लालू ने आगे निशाना साधते हुए नीतीश के लिए कहा कि नीतीश ने सभी नेताओं और पार्टियों को ही नहीं बल्कि करोड़ों लोगों को भी अपने विषदंत से काटा है। दोनों नेताओं का एक दूसरे पर अनोखी शब्दावली में हमला जारी है।

नीतीश कुमार द्वारा किये जा रहे ट्वीट पर काफी लोगों की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ट्वीटर एकाउंट पर 27 नवंबर के ट्वीट को 9 हजार 400 लोगों ने लाइक किया है, वहीं ढाई हजार लोगों ने रिट्वीट किया है और 588 लोगों ने रिप्लाई किया है। 28 नवंबर के ट्वीट पर 7 हजार 900 लोगों ने लाइक किया है और डेढ़ हजार से ज्यादा लोगों ने रिट्वीट किया है और 834 लोगों ने रिप्लाई दिया है। बहुत कम समय में नीतीश कुमार को फॉलो करने वालों की संख्या बढ़ गयी है।

वह अनोखी शब्दावली में बिना किसी का नाम लिए ट्वीट कर रहे हैं और लोग उनके ट्वीट को समझ भी रहे हैं।

ये भी पढ़े: लालू परिवार का ट्वीट वार! राजद प्रमुख ने CM पर लगाया गंभीर आरोप, पढ़ें क्या कहा…

 

Facebook Comments